Breaking News

मेयर करमजीत सिंह रिंटू ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत दिये गये आर्थिक सहायता पत्र

सरकार द्वारा दी जाने वाली आर्थिक सहायता का लोग सदुपयोग कर अगली किस्त प्राप्त करें :- मेयर रिंटू


अमृतसर, 28 जुलाई(राजन):मेयर करमजीत सिंह रिंटू की ओर से ‘प्रधानमंत्री आवास योजना’ के तहत अमृतसर उत्तरी विधानसभा क्षेत्र के वार्ड नं.  4, 6, 7, 8, 11 और 52 के लाभार्थियों को उनके बैंक खातों में नए मकानों के निर्माण या मकान निर्माण के लिए वित्तीय सहायता की किस्तों के हस्तांतरण के संबंध में पत्र दिए गए।  यह वित्तीय सहायता उन गरीब परिवारों के लिए है जिनके पास अपना घर बनाने का कोई साधन नहीं है या जिनके पास पुरानी छतें हैं ताकि ये परिवार इस वित्तीय सहायता का उचित उपयोग अपने घरों को स्थायी बनाने के लिए कर सकें। मेयर करमजीत सिंह रिंटू ने कहा  नगर निगम अमृतसर की ओर से लाभार्थियों को पहले ही करोड़ों रुपये की राशि बांटी जा चुकी है। उन्होंने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार की तरफ से लोगों से किए वादों को पूरा किया जा रहा है। इसी कड़ी के तहत आज प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जरूरतमंद परिवारों को अपने घरों को पक्का करने और अपनी कच्ची छतों को पक्का करने के लिए वित्तीय सहायता के पत्र दिए गए हैं, जिसके माध्यम से प्राप्त राशि सीधे उनके बैंक खातों में पहुंच जाएगी।


मेयर ने कहा कि पंजाब सरकार आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों की दुर्दशा को समझते हुए अतिरिक्त आर्थिक सहायता दे रही है और दूसरी किश्त समय के अनुसार बाद में जारी की जाएगी।मेयर ने अपने संदेश में कहा कि सरकार की इस योजना के तहत मिलने वाली आर्थिक सहायता किश्तों में दी जानी है लाभार्थी इस योजना के तहत राशि का सदुपयोग करके जल्द अगली किस्त प्राप्त कर सकते हैं।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की पंजाब सरकार जनहित के लिए कई योजनाएं चला रही है, जिसका सीधा फायदा लोगों को होगा।
इस अवसर पर एडिशनल कमिश्नर  संदीप ऋषि, सचिव विशाल वधावन, पार्षद काजल, पार्षद प्रदीप शर्मा, इंद्रजीत बॉबी, संदीप शाह, सुपरिटेंडेंट लवलीन शर्मा, वृंदा महाजन, हरप्रीत सिंह, नगर निगम के अधिकारी और लाभार्थी बड़ी संख्या में मौजूद थे।

About amritsar news

Check Also

नगर निगम ने गीले कचरे को रिसाइकल कर जैविक खाद बनाने की पहल की

अमृतसर,20 जून : नगर निगम  ने शहर के गीले कचरे को पुनर्चक्रित कर जैविक खाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *