Breaking News

जिले में बासमती रकबा 1.30 लाख हेक्टेयर करने का लक्ष्य

फसल की पराली  न जलाएं किसान : धालीवाल

अमृतसर, 8 अप्रैल(राजन):मुख्यमंत्री भगवंत  मान के गतिशील नेतृत्व में विकास कार्य के तहत कृषि एवं किसान कल्याण विभाग, जिला अमृतसर ने आत्म योजना के सहयोग से गुरु नानक भवन अमृतसर में जिला स्तरीय किसान प्रशिक्षण शिविर और कृषि प्रदर्शनी का आयोजन किया। केसर की फसल की खेती की नवीनतम तकनीकी जानकारी पर स्थापित जिसमें हजारों किसानों ने भाग लिया।कैबिनेट मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल ने कैंप का उद्घाटनऔर अध्यक्षता डिप्टी कमिश्नर हरप्रीत सिंह सूदन ने की। संयुक्त निदेशक कृषि डॉ. राज कुमार विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल हुए। मंत्री धालीवाल ने किसानों से अपील की कि वे खेतों के कचरे के गड्ढों में आग न लगाएं। उन्होंने कहा कि नई कृषि नीति आपके विचारों से तैयार की जा रही है और यह पंजाब की कृषि को नई दिशा देगी। उन्होंने कहा कि हम फसल के नुकसान का मुआवजा फसल के साथ देने जा रहे हैं और इस काम के लिए गिरवाड़ी हो रही है।उन्होंने किसानों से कहा कि किसी भी कर्मचारी को गलत रिपोर्ट दर्ज कराने का लालच न दें और यदि कोई आपको न्याय नहीं देता है तो हमारे संज्ञान में लाएं।

गेहूं और धान के फसल चक्र से बाहर निकलने का भी सुझाव दिया

मंत्री धालीवाल ने  किसानों को विविधता की खेती के लिए गेहूं और धान के फसल चक्र से बाहर निकलने का भी सुझाव दिया। डीसी  हरप्रीत सिंह सूदन ने कहा कि हम अपने किसानों की मदद के लिए हमेशा तैयार हैं, लेकिन कृषि विविधीकरण और बिना आग लगाए अगली फसल लगाने जैसी पहल को किसान जमीनी स्तर पर ही लागू कर सकता है।

अमृतसर को बासमती बेल्ट में रखा गया

  मुख्य कृषि अधिकारी अमृतसर डॉ. जतिंदर सिंह गिल ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों/कर्मचारियों और किसानों का स्वागत किया। उन्होंने जिले में चल रही विभिन्न योजनाओं की जानकारी देते हुए कहा कि वर्ष 2023 के दौरान धान और बासमती का रकबा लगभग 1,80,000 हेक्टेयर आने की संभावना है, जिसमें 1,30,000 हेक्टेयर है। बासमती के अंतर्गत लाने का लक्ष्य रखा गया है जबकि पिछले वर्ष बासमती का रकबा 1,08,052 हेक्टेयर था।  फसल विविधीकरण कार्यक्रम के तहत जिला  है। उन्होंने कहा कि विभाग किसानों को मानक खाद व बीज उपलब्ध कराएगा। उन्होंने किसानों से संशोधित बासमती बीज बोने को कहा ताकि फसलों को रोग के आक्रमण से बचाया जा सके। उन्होंने किसानों से पुरजोर अपील करते हुए कहा कि पराली को आग न लगाएं ताकि पर्यावरण की शुद्धता बनी रहे। कृषकों ने मृदा परीक्षण के आधार पर उर्वरकों का प्रयोग करने तथा कृषि विशेषज्ञों से परामर्श के बाद ही कीटनाशकों का प्रयोग करने को कहा।
इस किसान मेले में कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन, मत्स्य पालन, डेयरी, मृदा संरक्षण विभाग, केवीके, खाद, बीज, दवाइयां, नवीनतम कृषि मशीनरी एवं स्वयं समूहों द्वारा भी कृषि प्रदर्शनियों का आयोजन किया गया, जिसमें किसानों ने काफी रुचि दिखाई और जानकारी प्राप्त की. कृषि विज्ञान केंद्र अमृतसर के कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को विभिन्न विषयों और कृषि की तकनीकी जानकारी दी। इस अवसर पर उप निदेशक कृषि रमिंदर सिंह धंजू, उप निदेशक केवीके डॉ. बिक्रमजीत सिंह, प्रभारी किसान सलाहकार केंद्र अमृतसर, चेयरमैन बलदेव सिंह कदमिया, आप नेता सतपाल सौखी, श्रीमती सीमा,डॉ. नरेंद्रपाल सिंह, डॉ. आस्था, डॉ. रमिंदर कौर हुंदल, कृषि अधिकारी सुखराजबीर सिंह गिल, अमरजीत सिंह बल, तजिंदर सिंह, रमन कुमार, सुखचैन सिंह, भूपिंदर सिंह, गुरमीत सिंह, बलविंदर सिंह छिनान, सतविंदर सिंह संधू, जोगराजबीर सिंह गिल, हरदीप कौर, बलजिंदर सिंह संधू, हरप्रीत सिंह कृषि विकास अधिकारी गुरप्रीत सिंह औलख, गुरप्रीत सिंह बाथ, परजीत सिंह औलख, गुरजोत सिंह गिल, गुरविंदर सिंह संधू, सुखबीर सिंह संधू, सुखराज सिंह सिद्धू, सतविंदरबीर सिंह, संदीप सिंह संधू, विक्रमजीत सिंह, अमरदीप सिंह, कृषि विस्तार अधिकारी प्रभदीप सिंह गिल . इस अवसर पर मुख्य अतिथि द्वारा उद्यमी किसानों को सम्मानित किया गया।

‘अमृतसर न्यूज़ अपडेटस” की व्हाट्सएप पर खबर पढ़ने के लिए ग्रुप ज्वाइन करें

https://chat.whatsapp.com/D2aYY6rRIcJI0zIJlCcgvG

‘अमृतसर न्यूज़ अपडेटस” की खबर पढ़ने के लिए ट्विटर हैंडल को फॉलो करें

https://twitter.com/AgencyRajan

About amritsar news

Check Also

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर शहर में योग के शिविर लगाकर लोगों को योग कर इसे दिनचर्या में उतारने का दिया संदेश

अमृतसर, 21 जून:अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर शुक्रवार को शहर में योग के शिविर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *