Breaking News

मुख्य मार्गों और अन्य क्षेत्रों में स्ट्रीट लाइट बंद रहने से शहर अंधेरे में डूबा

मुख्य मार्गों पर बंद पड़ी लाइटें।

अमृतसर,15 जनवरी (राजन): मुख्य मार्गों और अन्य क्षेत्रों में स्ट्रीट लाइट बंद रहने से शहर अंधेरे में डूबा रहता है। नगर निगम ने इसका ऑपरेशन एंड मेंटेनेंस का ठेका एक कंपनी को दिया हुआ। इसके एवज में कंपनी नगर निगम से करोड़ों रुपया ले रही है। कंपनी से कॉन्ट्रैक्ट के अनुसार कंपनी शर्ते भी पूरी नहीं कर पा रही है। ना ही कंपनी ने ऑपरेशन एंड मेंटिनेस के लिए पूरी तरह से ना ही मशीनरी रखी है और ना ही कंपनी के पास पूरा पूरा स्टाफ है। कंपनी द्वारा शिकायतें हल करने के लिए ऑटोमेटिक सिस्टम अपनाए जाना था और पूरी तरह से कंप्यूटराइज शिकायत केंद्र भी खोले जाने थे। कंपनी द्वारा स्ट्रीट लाइटस  को लेकर ऑटोमेटिक स्क्रीन 24 घंटे शुरू की जानी थी, किंतु ऐसा कुछ भी नहीं है।

मुख्य मार्गों पर बंद पड़ी लाइटें।

अधिकांश क्षेत्रों की लाइटे बंद

जीटी रोड के बीआरटीएस रूट कि अधिकांश लाइटें इस वक्त बंद पड़ी हुई है। जिससे हादसों का खतरा बना हुआ है। इसके अलावा हुसैनपुरा पुल और रीगो ब्रिज की भी अधिकांश लाइटें बंद होने से लूट  खसूट का खतरा बना हुआ है। बस स्टैंड क्षेत्र और रेलवे स्टेशन के आसपास भी अधिकांश लाइटें बंद रहने से लोगों को भारी परेशानियां झेलनी पड़ रही है। एनएच 1 सुल्तानविंड रोड, वेरका की अधिकांश क्षेत्र और शहर के अन्य क्षेत्रों में भी अक्सर लाइटें बंद होने के बाद निर्धारित अवधि के भीतर ठीक नहीं हो पाती। अगर कंपनी द्वारा निर्धारित  समय अवधि के भीतर लाइट ठीक नहीं कराई जाती तो कंपनी को जुर्माना लगाने का प्रावधान भी है। कंपनी द्वारा बरती जा रही लापरवाही पर निगम अधिकारियों द्वारा अंकुश नहीं लगाया जा रहा। अलबत्ता कंपनी के पास जिन क्षेत्रों का  मेंटेनेंस का ठेका नहीं है, उसके भी बिल निगम अधिकारी द्वारा तैयार किए जा रहे हैं। जबकि इन क्षेत्रों में लाइट बंद होने पर निगम अधिकारियों द्वारा ठीक करवाया जाता रहा है। जिससे नगर निगम को लाखों रुपयों की हानि हो सकती है।

नगर निगम के पास स्टाफ की कमी

मुख्य मार्गों पर बंद पड़ी लाइटें।

नगर निगम के पास स्ट्रीट लाइट विभाग में कार्यरत अधिकारियों और स्टाफ की भारी कमी है। स्ट्रीट लाइट विभाग के पास इस वक्त एक एसडीओ, 2 जे ई, 8 पेट्रोलर,10 इलेक्ट्रिशियन मौजूद है, जिनके पास इलेक्ट्रिकल डिप्लोमा और आईटी है। स्ट्रीट लाइट विभाग में कार्यरत निगरान इंजीनियर, एक्सियन और एक जेई नगर निगम के ओ एंड एम सैल से है। मोहल्ला सुधार कमेटी के अंतर्गत स्ट्रीट लाइट विभाग में कार्यरत 130 मुलाजिमो को भी नौकरी से निकाले जाने से स्ट्रीट लाइट मेंटिनेस पर काफी प्रभाव पड़ा है। इस तरह से स्ट्रीट लाइट विभाग के पास अधिकारियों और मुलाजिमों की भारी कमी चल रही है।

‘अमृतसर न्यूज़ अपडेटस” की व्हाट्सएप पर खबर पढ़ने के लिए ग्रुप ज्वाइन करें

https://chat.whatsapp.com/D2aYY6rRIcJI0zIJlCcgvG

‘अमृतसर न्यूज़ अपडेटस” की खबर पढ़ने के लिए ट्विटर हैंडल को फॉलो करें

https://twitter.com/AgencyRajan

About amritsar news

Check Also

शहर को सुंदर और हरा-भरा बनाने के लिए सभी अधिकारी और कर्मचारी एक टीम के रूप में काम करें:धालीवाल

निगम अधिकारियों के साथ बैठक करते कैबिनेट मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल। अमृतसर, 20 जून (राजन): …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *