Breaking News

नगर निगम द्वारा बजट में निर्धारित किए गए विभागों की आमदनी के लक्ष्य —विभाग निर्धारित आमदनी के आसपास भी नहीं

पिछले वित्त वर्ष के मुकावले मे 85 करोड़ रूपये घाटे का रखा था बजट , इस वित्त वर्ष में 366 करोड का  बजट

निगम कर रहा है बजट की मीटिंग की तैयारी


अमृतसर,7 फरवरी (राजन गुप्ता): नगर निगम द्वारा वर्ष 2020-21 में आमदनी का 366करोड़ रुपयों का बजट रखा गया। जबकि वर्ष 2019-20 का 451करोड़ रुपयों का बजट रखा गया था तथा इस वित्त वर्ष में लगभग 85 करोड़ रुपयों का घाटे का बजट रखा।कोरोना काल के चलते बिना नगर निगम हाउस की मंजूरी के वित्त एंड ठेका कमेटी से मंजूरी लेकर सरकार से कम आमदनी वाला  366 करोड रुपए का बजट मंजूर करवाया गया।
अपने विभागों तथा अन्य से आने वाली आमदनी इस प्रकार रखी गई
हाउस/ प्रॉपर्टी टैक्स विभाग 40 करोड़,विज्ञापन विभाग 12 करोड़,वॉटर एंड सीवरेज विभाग से 35 करोड़,सेल ऑफ प्रॉपर्टी,रेंट /तहबाजारी 42 करोड़,बिल्डिंग एप्लीकेशन कंपोजीशन फीस,रेगुलराइजेशन आफ अनऑथराइज्ड कॉलोनी 33.50 करोड़ इसी तरह से पीएमएफ 151करोड़,इलेक्ट्रिसिटी से टैक्स 20 करोड , एक्साइज ड्यूटी 10 करोड़ व अन्य फुटकल आमदनी 20 करोड़ रूपये रखी गईं।

निगम के प्रॉपर्टी टैक्स तथा एमटीपी विभाग द्वारा निर्धारित लक्ष्य से 50% तक आमदनी हो जाने की संभावना है। प्रॉपर्टी टैक्स लगभग 20 करोड  रुपए तथा  एमटीपी विभाग  बिल्डिंग कंपोजिशन एप्लीकेशन फीस तथा अनऑथराइज्ड कॉलोनियों से लगभग 17 करोड रूपये 31 मार्च तक एकत्रित कर सकता है.शेष सभी विभाग निर्धारित लक्ष्य के आसपास भी नहीं है। निगम के लैंड विभाग का वार्षिक बजट 42  करोड़ रूपये तथा विज्ञापन विभाग का 12 करोड रूपये निर्धारित है.दोनों ही विभाग आमदनी में इस वित्त वर्ष में फिसड्डी साबित हुए हैं। लैंड विभाग का कहना है कि तहबाजारी बंद होने से तथा इस वित्त वर्ष में अभी तक प्रॉपर्टी सेल नहीं हुई है।

इसी तरह से विज्ञापन विभाग अब तक मात्र 1 करोड रुपया ही एकत्रित कर पाया है। विज्ञापन विभाग का कहना है कि कोविड-19 के चलते प्रदेश सरकार द्वारा भी विज्ञापन पॉलिसी में राहत दे दी गई है तथा यूजर टैक्स के मामले में केस हाईकोर्ट में विचाराधीन है और डीपीआरओ से40लाख रुपए की रिकवरी आ रही है। विभाग दोनों कंपनियों से भी 31 मार्च तक अपनी बनती राशि वसूल कर लेगा। निगम के वॉटर एंड सीवरेज चार्जेस में इस वित्त वर्ष में विभाग द्वारा बिल बांटने तथा रिकवरी करने में भारी अनियमिताए होने के कारण पिछले वर्षों के मुकाबले में कम आमदनी कर पाया है।यही हाल निगम के लाइसेंस विभाग का है।
बजट मीटिंग की तैयारी
निगम आने वाले दिनों में निगम के हाउस की बजट मीटिंग करने जा रहा है। बजट मीटिंग का एजेंडा बनाने के लिए तैयारियां की जा रही है तथा प्रत्येक विभाग से आमदनियों के ब्योरे भी मांगे जाएंगे कि अब तक कितनी आमदनी तथा 31मार्च तक संभावित कितनी आमदनी होगी।
टैक्स रिकवरी के लिए करनी होगी सख्ती

निगम के प्रत्येक विभाग की बकाया टैक्स को एकत्रित करने के लिए सख्ती करनी पड़ेगी। इस संबंधी निगम कमिश्नर कोमल मित्तल द्वारा समूह विभागों को सख्त निर्देश जारी किए हुए हैं। अभी भी इस वित्त वर्ष में 50 दिन शेष है । प्रॉपर्टी  टैक्स  विभाग द्वारा डिफाल्टर पार्टियों को सीलिंग नोटिस जारी किए जाएंगे। इसी तरह से वॉटर एंड सीवरेज चार्जेस  विभाग द्वारा भी डिफॉल्टर पार्टियों के कनेक्शन काटने की प्रक्रिया आने वाले दिनों में शुरू हो जानी है। एमटीपी विभाग द्वारा रेगुलर की गई  कॉलोनियों से बकाया टैक्स तथा अनऑथराइज्ड कॉलोनियों को
रेगुलराइज  करके टैक्स रिकवरी  करेगा  ।

About amritsar news

Check Also

विधायक डॉ गुप्ता ने लोगों की समस्याए सुनकर अधिकारियों को लगाई फटकार: कहा लोगों की समस्याए हल करो

क्षेत्र का दौरा कर लोगों की समस्याएं सुनते हुए विधायक डॉ अजय गुप्ता। अमृतसर,17 जुलाई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *